Thursday, July 14, 2022

प्रबंध काव्य | पद्मावत (स्त्री-भेद-वर्णन-खण्ड) | मलिक मोहम्मद जायसी | Prabandh Kavya | Padmavat / Stri Bhed Varnan Khand | Malik Muhammad Jayasi


 
पहिले कहौं हस्तिनी नारी । हस्ती कै परकीरति सारी ॥

सिर औ पायँ सुभर गिउ छोटी । उर कै खीनि, लंक कै मोटी ॥

कुंभस्थल कुच,मद उर माहीं । गवन गयंद,ढाल जनु बाहीं ॥

दिस्टि न आवै आपन पीऊ । पुरुष पराएअ ऊपर जिऊ ॥

भोजन बहुत, बहुत रति चाऊ । अछवाई नहिं, थोर बनाऊ ॥

मद जस मंद बसाइ पसेऊ । औ बिसवासि छरै सब केऊ ॥

डर औ लाज न एकौ हिये । रहै जो राखे आँकुस दिये ॥


गज-गति चलै चहूँ दिसि, चितवै लाए चोख ।

कही हस्तिनी नारि यह, सब हस्तिन्ह के दोख ॥1॥


दूसरि कहौं संखिनी नारी । करै बहुत बल अलप-अहारी ॥

उर अति सुभर, खीन अति लंका । गरब भरी, मन करै न संका ॥

बहुत रोष, चाहै पिउ हना । आगे घाल न काहू गना ॥

अपनै अलंकार ओहि भावा । देखि न सकै सिंगार परावा ॥

सिंघ क चाल चलै डग ढीली । रोवाँ बहुत जाँघ औ फीली ॥

मोटि , माँसु रुचि भोजन तासू । औ मुख आव बिसायँध बासू ॥

दिस्टि, तिरहुडी, हेर न आगे । जनु मथवाह रहै सिर लागे ॥


सेज मिलत स्वामी कहँ लावै उर नखबान ।

जेहि गुन सबै सिंघ के सो संखिनि, सुलतान !॥2॥


तीसरि कहौं चित्रिनी नारी । महा चतुर रस-प्रेम पियारी ॥

रूप सुरूप, सिंगार सवाई । अछरी जैसि रहै अछवाई ॥

रोष न जानै, हँसता-मुखी । जेहि असि नारी कंत सो सुखी ॥

अपने पिउ कै जानै पूजा । एक पुरुष तजि आन न दूजा ॥

चंदबदनि, रँग कुमुदिनि गोरी । चाल सोहाइ हंस कै जोरी ॥

खीर खाँड रुचि, अलप अहारू । पान फूल तेहि अधिक पियारू ॥

पदमिनि चाहि घाटि दुइ करा । और सबै गुन ओहि निरमरा ॥


चित्रिनि जैस कुमुद-रँग सोइ बासना अंग ।

पदमिनि सब चंदन असि, भँवर फिरहिं तेहि संग ॥3॥


चौथी कहौं पदमिनी नारी । पदुम-गंध ससि देउ सँवारी ॥

पदमिनि जाति पदुम-रँग ओही । पदुम-बास, मधुकर सँग होहीं ॥

ना सुठि लाँबी, ना सुठि छोटी । ना सुठि पातरि, ना सुठि मोटी ॥

सोरह करा रंग ओहि बानी । सो, सुलतान !पदमिनी जानी ॥

दीरघ चारि, चारि लघु सोई । सुभर चारि, चहुँ खीनौ होई ॥

औ ससि-बदन देखि सब मोहा । बाल मराल चलत गति सोहा ॥

खीर अहार न कर सुकुवाँरी । पान फूल के रहै अधारी ॥


सोरह करा सँपूरन औ सोरहौ सिंगार ।

अब ओहि भाँति कहत हौं जस बरनै संसार ॥4॥


प्रथम केस दीरघ मन मोहै । औ दीरघ अँगुरी कर सोहै ॥

दीरघ नैन तीख तहँ देखा । दीरघ गीउ, कंठ तिनि रेखा ॥

पुनि लघु दसन होहिं जनु हीरा । औ लघु कुच उत्तंग जँभीरा ॥

लघु लिलाट छूइज परगासू । औ नाभी लघु, चंदन बासू ॥

नासिक खीन खरग कै धारा । खीन लंक जनु केहरि हारा ॥

खीन पेट जानहुँ नहिं आँता । खीन अधर बिद्रुम-रँग-राता ॥

सुभर कपोल, देख मुख सोभा । सुभर नितंब देखि मन लोभा ॥


सुभर कलाई अति बनी, सुभर जंघ, गज चाल ।

सोरह सिंगार बरनि कै , करहिं देवता लाल ॥5॥



(1) अछवाई = सफाई । बनाऊ = बनाव सिंगार । बसाइ = दुर्गंध करता है । चोख = चंचलता या नेत्र


(2) सुभर = भरा हुआ । चाहै पिउ हना = पति को कभी कभी मारने दौडती है । घाल न गना = कुछ नहीं समझती, पसंगे बराबर नहीं समझती । फीली = पिंडली । तरहुँडी = नीचा । हेर = देखती है । मथवाह = झालरदार पट्टी जो भडकनेवाले घोडों के मत्थे पर इसलिये बाँध दी जाती है जिसमें वे इधर उधर की वस्तु देख न सकें । जेहि गुन सबै सिंघ के = कवि ने शायद शंखिनी के स्थान पर `सिंघिनी' समझा है ।


(3) सवाई = अधिक । अछवाई = साफ, निखरी । चाहि = अपेक्षा, बनिस्बत । घाटि =घटकर । करा = कला । बासना = बास, महँक ।


(4) सुठि = खूब, बहुत । दीरघ चारि...होइ = ये सोलह श्रृंगार के विभाग हैं ।


(5) दीरघ = लंबे । तीख = तीखे । तिनि = तीन । केहरि हारा = सिंह ने हार कर दी । आँता = अँतडी । सुभर = भरे हुए । लाल = लालसा ।


No comments:

Post a Comment

निबंध | कवि और कविता | महावीर प्रसाद द्विवेदी | Nibandh | Kavi aur Kavita | Mahavir Prasad Dwivedi

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी निबंध - कवि और कविता यह बात सिद्ध समझी गई है कि कविता अभ्यास से नहीं आती। जिसमें कविता करने का स्वाभाविक माद्द...