Thursday, July 14, 2022

प्रबंध काव्य | पद्मावत (सिंहलद्वीप-खण्ड) | मलिक मोहम्मद जायसी | Prabandh Kavya | Padmavat/ Singhaldweep Khand | Malik Muhammad Jayasi

 


पूछा राजै कहु गुरु सूआ । न जनौं आजु कहाँ दहुँ ऊआ ॥

पौन बास सीतल लेइ आवा । कया दहत चंदनु जनु लावा ॥

कबहुँ न एस जुडान सरीरू । परा अगिनि महँ मलय-समीरू ॥

निकसत आव किरिन-रविरेखा । तिमिर गए निरमल जग देखा ॥

उठै मेघ अस जानहुँ आगे । चमकै बीजु गगन पर लागै ॥

तेहि ऊपर जनु ससि परगासा । औ सो चंद कचपची गरासा ॥

और नखत चहुँ दिसि उजियारे । ठावहिं ठाँव दीप अस बारे ॥


और दखिन दिसि नीयरे कंचन-मेरु देखाव ।

जनु बसंत ऋतु आवै तैसि तैसि बास जग आव ॥1॥


तूँ राजा जस बिकरम आदी । तू हरिचंद बैन सतबादी ॥

गोपिचंद तुइँ जीता जोगू । औ भरथरी न पूज बियोगू ॥

गोरख सिद्धि दीन्ह तोहि हाथू । तारी गुरू मछंदरनाथू ॥

जीत पेम तुइँ भूमि अकासू । दीठि परा सिंघल-कबिलासू ॥

वह जो मेघ गढ लाग अकासा । बिजुरी कनय-कोट चहु पासा ॥

तेहि पर ससि जो कचपचि भरा । राजमंदिर सोने नग जरा ॥

और जो नखत देख चहुँ पासा । सब रानिन्ह कै आहिं अवासा ॥


गगन सरोवर, ससि-कँवल कुमुद-तराइन्ह पास ।

तू रवि उआ, भौंर होइ पौन मिला लेइ बास ॥2॥


सो गढ देखु गगन तें ऊँचा । नैनन्ह देखा, कर न पहुँचा ॥

बिजुरी चक्र फिरै चहुँ फेरी । औ जमकात फिरै जम केरी ॥

धाइ जो बाजा कै मन साधा । मारा चक्र भएउ दुइ आधा ॥

चाँद सुरुज औ नखत तराईं । तेहि डर अँतरिख फिरहिं सबाई ॥

पौन जाइ तहँ पहुँचै चहा । मारा तैस लोटि भुइँ रहा ॥

अगिनि उठी, जरि बुझी निआना । धुआँ उठा, उठि बीच बिलाना ॥

पानि उठा उठि जाइ न छूआ । बहुरा रोइ, आइ भुइँ चूआ ॥


रावन चहा सौंह होइ उतरि गए दस माथ ।

संकर धरा लिलाट भुइँ और को जोगीनाथ ?॥3॥


तहाँ देखु पदमावति रामा । भौंर न जाइ, न पंखी नामा ॥

अब तोहि देउँ सिद्धि एक जोगू । पहिले दरस होइ, तब भोगू ॥

कंचन-मेरु देखाव सो जहाँ । महादेव कर मंडप तहाँ ॥

ओहि-क खंड जस परबत मेरू । मेरुहि लागि होइ अति फेरू ॥

माघ मास, पाछिल पछ लागे । सिरी-पंचिमी होइहि आगे ॥

उघरहि महादेव कर बारू । पूजिहि जाइ सकल संसारू ॥

पदमावति पुनि पूजै आवा । होइहि एहि मिस दीठि-मेरावा ॥


तुम्ह गौनहु ओहि मंडप, हौं पदमावति पास ।

पूजै आइ बसंत जब तब पूजै मन-आस ॥4॥


राजै कहा दरस जौं पावौं । परबत काह, गगन कहँ धावौं ॥

जेहि परबत पर दरसन लहना । सिर सौं चढौं, पाँव का कहना ॥

मोहूँ भावै ऊँचै ठाऊँ । ऊँचै लेउँ पिरीतम नाऊँ ॥

पुरुषहि चाहिय ऊँच हियाऊ । दिन दिन ऊँचे राखै पाऊ ॥

सदा ऊँच पै सेइय बारा । ऊँचै सौ कीजिय बेवहारा ॥

ऊँचै चढै, ऊँच खँड सूझा । ऊँचे पास ऊँच मति बूझा ॥

ऊँचे सँग संगति निति कीजै । ऊँचे काज जीउ पुनि दीजै ॥


दिन दिन ऊँच होइ सो जेहि ऊँचे पर चाउ ।

ऊँचे चढत जो खसि परै ऊँच न छाँडिय काउ ॥5॥


हीरामन देइ बचा कहानी । चला जहाँ पदमावति रानी ॥

राजा चला सँवरि सो लता । परबत कहँ जो चला परबता ॥

का परबत चढि देखै राजा । ऊँच मँडप सोने सब साजा ॥

अमृत सदाफर फरे अपूरी । औ तहँ लागि सजीवन-मूरी ॥

चौमुख मंडप चहूँ केवारा । बैठे देवता चहूँ दुवारा ॥

भीतर मँडप चारि खँभ लागे । जिन्ह वै छुए पाप तिन्ह भागे ॥

संख घंट घन बाजहिं सोई । औ बहु होम जाप तहँ होई ॥


महादेव कर मंडप जग मानुस तहँ आव ।

जस हींछा मन जेहि के सो तैसे फल पाव ॥6॥



(1)कचपची = कृत्तिका नक्षत्र ।


(2) आदि = आदी, बिलकुल । बैन = वचन अथवा वैन्य (वेन का पुत्र पृथु) तारी =ताली, कुंजी । मछंदरनाथ = मत्स्येंद्रनाथ, गोरखनाथ के गुरु । कनय = कनक, सोना । जमकात = एक प्रकार का खाँडा (यमकर्त्तरि) । बाजा = पहुँचा,डटा । तैस = ऐसा । निआन = अंत में । जोगीनाथ = योगीश्वर ।


(4) पछ = पक्ष । उघरहि = खुलेगा बारू =बार, द्वार । दीठि-मेरवा = परस्पर दर्शन ।


(5) बूझा =बूझ, समझता है । खसि परै = गिर पडे ।


(6)बचा कहानी = वचन और व्यवस्था । लता = पद्मलता,पद्मावती । परबता =सुआ (सुए का प्यार का नाम) का देखै = क्या देखता है कि । हींछा = इच्छा ।


No comments:

Post a Comment

निबंध | कवि और कविता | महावीर प्रसाद द्विवेदी | Nibandh | Kavi aur Kavita | Mahavir Prasad Dwivedi

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी निबंध - कवि और कविता यह बात सिद्ध समझी गई है कि कविता अभ्यास से नहीं आती। जिसमें कविता करने का स्वाभाविक माद्द...