Thursday, July 14, 2022

प्रबंध काव्य | पद्मावत (राजा-गढ-छेंका-खण्ड) | मलिक मोहम्मद जायसी | Prabandh Kavya | Padmavat/ Raja Gad Cheka Khand | Malik Muhammad Jayasi



 सिधि-गुटिका राजै जब पावा । पुनि भइ सिद्धि गनेस मनावा ॥

जब संकर सिधि दीन्ह गुटेका । परी हुल, जोगिन्ह गढ छेंका ॥

सबैं पदमिनी देखहिं चढी । सिंघल छेंकि उठा होइ मढी ॥

जस घर भरे चोर मत कीन्हा । तेहि बिधि सेंधि चाह गढ दीन्हा ॥

गुपुत चोर जो रहै सो साँचा । परगट होइ जीउ नहिं बाँचा ॥

पोरि पौरि गढ लाग केवारा । औ राजा सौं भई पुकारा ॥

जोगी आइ छेंकि गढ मेला । न जनों कौन देस तें खेला ॥


भयउ रजायसु देखौ, को भिखारि अस ढीठ ।

बेगि बरज तेहि आवहु जन दुइ पठैं बसीठ ॥1॥


उतरि बसीठन्ह आइ जोहारे ।"की तुम जोगी, की बनिजारे ॥

भएउ रजायसु आगे खेलहिं । गढ तर छाँडि अनत होइ मेलहिं ॥

अस लागेहु केहि के सिख दीन्हे । आएहु मरे हाथ जिउ लीन्हे ॥

इहाँ इंद्र अस राजा तपा । जबहिं रिसाई सूर डरि छपा ॥

हौ बनिजार तौ बनिज बेसाहौ । भरि बैपार लेहु जो चाहौ ॥

हौ जोगी तौ जुगुति सौं माँगौं । भुगुति लेहु, लै मारग लागौ ॥

इहाँ देवता अस गए हारी । तुम्ह पतिंग को अहौ भिखारी ॥


तुम्ह जोगी बैरागी , कहत न मानहु कोहु ।

लेहु माँगि किछु भिच्छा , खेलि अनत कहुँ होहु" ॥2॥


" आनु जो भीखि हौं आएउँ लेई । कस न लेउँ जौं राजा देई ॥

पदमावति राजा कै बारी । हौं जोगी ओहि लागि भिखारी ॥

खप्पर लेइ बार भा माँगौं । भुगुति देइ देइ मारग लागौं ॥

सोई भुगुति-परापति भूजा । कहाँ जाउँ अस बार न दूजा ॥

अब धर इहाँ जीउ ओहि ठाउँ । भसम होउँ बरु तजौं न नाऊँ ॥

जस बिनु प्रान पिंड है छँछा । धरम लाइ कहिहौं जो पूछा ॥

तुम्ह बसीठ राजा के ओरा । साखी होहु एहि भीख निहोरा ॥


जोगी बार आव सो जेहि भिच्छा कै आस ।

जो निरास दिढ आसन कित गौने केहु पास "?॥3॥


सुनि बसीठ मन उपनी रीसा । जौ पीसत घुन जाइहि पीसा ॥

जोगी अस कहुँ कहै न कोई । सो कहु बात जोग जो होई ॥

वह बड राज इंद्र कर पाटा । धरती परा सरग को चाटा ?॥

जौं यह बात जाइ तहँ चली । छूटहिं अबहिं हस्ति सिंघली ॥

औं जौं छुटहि बज्र कर गोटा । बिसरिहि भुगुति, होइ सब रोटा ॥

जहँ केहु दिस्टि न जाइ पसारी । तहाँ पसारसि हाथ भिखारी ॥

आगे देखि पाँव धरु, नाथा । तहाँ न हेरु टूट जहँ माथा ॥


वह रानी तेहि जौग है जाहि राज औ पाटु ।

सुंदर जाइहि राजघर, जोगहि बाँदर काटु ॥4॥


जौं जोगी सत बाँदर काटा । एकै जोग, न दूसरि बाटा ॥

और साधना आवै साधे । जोग-साधना आपुहि दाधे ॥

सरि पहुँचाव जोगि कर साथू । दिस्टि चाहि अगमन होइ हाथू ॥

तुम्हरे जोर सिंघल के हाथी । हमरे हस्ति गुरू हैं साथी ॥

अस्ति नास्ति ओहि करत न बारा । परबत करै पाँव कै छारा ॥

जोर गिरे गढ जावत भए । जे गढ गरब करहिं ते नए ॥

अंत क चलना कोइ न चीन्हा । जो आवा सो आपन कीन्हा ॥


जोगिहि कोह न चाहिय, तस न मोहिं रिस लागि ।

जोग तंत ज्यौं पानी, काह करै तेहि आगि ?॥5॥


बसिठन्ह जाइ कही अस बाता । राजा सुनत कोह भा राता ॥

ठावहिं ठाँव कुँवर सब माखे । केइ अब लीन्ह जोग, केइ राखे ?॥

अबहिं बेगहि करौ सँजोऊ । तस मारहु हत्या नहिं होऊ ॥

मंत्रिन्ह कहा रहौ मन बूझे । पति न होइ जोगिन्ह सौं जूझे ॥

ओहि मारे तौ काह भिखारी । लाज होइ जौं माना हारी ॥

ना भल मुए, न मारे मोखू । दुवौ बात लागै सम दोखू ॥

रहे देहु जौं गढ तर मेले । जोगी कित आछैं बिनु खेले ?॥


आछे देहु जो गढ तरे, जनि चालहु यह बात ।

तहँ जो पाहन भख करहिं अस केहिके मुख दाँत ॥6॥


गए बसीठ पुनि बहुरि न आए । राजै कहा बहुत दिन लाए ॥

न जनों सरग बात दहुँ काहा । काहु न आइ कही फिरि चाहा ॥

पंख न काया, पौन न पाया । केहि बिधि मिलौ होइ कै छाया ?॥

सँवरि रकत नैनहिं भरि चूआ । रोइ हँकारेसि माझी सूआ ॥

परी जो आसु रकत कै टूटी । रेंगि चलीं जस बीर-बहूटी ॥

ओहि रकत लिखि दीन्ही पाती । सुआ जो लीन्ह चोंच भइ राती ॥

बाँधी कंठ परा जरि काँठा । बिरह क जरा जाइ कित नाठा ?॥


मसि नैना, लिखनी बरुनि, रोइ रोइ लिखा अकत्थ ।

आखर दहै, न कोइ छुवै, दीन्ह परेवा हत्थ ॥7॥


औ मुख बचन जो कहा परेवा । पहिले मोरि बहुत कहि सेवा ॥

पुनि रे सँवार कहेसि अस दूजी । जो बलि दीन्ह देवतन्ह पूजी ॥

सो अबहिं तुम्ह सेव न लागा । बलि जिउ रहा, न तन सो जागा ॥

भलेहि ईस हू तुम्ह सेव न लागा । बलि जिउ रहा, न तनि सो जागा ॥

जौ तुम्ह मया कीन्ह पगु धारा । दिस्टि देखाइ बान-बिष मारा ॥

जो जाकर अस आसामुखी । दुख महँ ऐस न मारै दुखी ॥

नैन-भिखारि न मानहिं सीखा । आगमन दौरि देहिं पै भीखा ॥


नैनहिं नैन जो बेधि गए, नहिं निकसैं वे बान ।

हिये जो आखर तुम्ह लिखे ते सुठि लीन्ह परान ॥8॥


ते बिष-बान लिखौं कहँ ताईं । रकत जो चुआ भीजि दुनियाईं ॥

जान जो गारै रकत-पसेऊ । सुखी न जान दुखी कर भेऊ ॥

जेहि न पीर तेहिं काकरि चिंता । पीतम निठुर होइँ अस निंता ॥

कासौं कहौं बिरह कै भाषा ?। जासौ कहौं होइ जरि राखा ॥

बिरह -आगि तन बन बन जरे । नैन-नीर सब सायर भरे ॥

पाती लिखी सँवरि तुम्ह नावाँ । रकत लिखे आखर भए सावाँ ॥

आखर जरहिं न काहू छूआ । तब दुख देखि चला लेइ सूआ ॥


अब सुठि मरौं; छूछि गइ (पाती) पेम-पियारे हाथ ।

भेंट होत दुख रोइ सुनावत जीउ जात जौं साथ ॥9॥


कंचन -तार बाँधि गिउ पाती । लेई गा सुआ जहाँ धनि राती ॥

जैसे कँवल सूर के आसा । नीर कंठ लहि मरत पियासा ।

बिसरा भौग सेज सुख-बासा । जहाँ भौंर सब तहाँ हुलासा ॥

तौ लगि धीर सुना नहिं पीऊ । सुना त घरी रहै नहिं जीऊ ।

तौ लगि सुख हिय पेम न जाना । जहाँ पेम कत सुख बिसरामा ?॥

अगर चंदन सुठि दहै सरीरू । औ भा अगिनि कया कर चीरू ॥

कथा-कहानी सुनि जिउ जरा । जानहुँ घीउ बसंदर परा ॥


बिरह न आपु सँभारै, मैल चीर, सिर रूख ।

पिउ पिउ करत राति दिन जस पपिहा मुख सूख ॥10॥


ततखन गा हीरामन आई । मरत पियास छाँह जनु पाई ॥

भल तुम्ह सुआ ! कीन्ह है फेरा । कहहु कुसल अब पीतम केरा ॥

बाट न जानौं,अगम पहारा । हिरदय मिला न होइ निनारा ॥

मरम पानि कर जान पियासा । जो जल महँ ता कहँ का आसा ?॥

का रानी यह पूछहु बाता । जिन कोइ होइ पेम कर राता ॥

तुम्हरे दरसन लागि बियोगी । अहा सो महादेव मठ जोगी ॥

तुम्ह बसंत लेइ तहाँ सिधाई । देव पूजि पुनि ओहि पहँ आई ॥


दिस्टि बान तस मारेहु घायल भा तेहि ठाँव ।

दूसरि बात न बोलै, लेइ पदमावति नाँव ॥11॥


रोवँ रोवँ वै बान जो फूटे । सूतहि सूत रुहिर मुख छूटे ॥

नैनहिं चली रकत कै धारा । कंथा भीजि भएउ रतनारा ॥

सूरुज बूडि उठा होई ताता । औ मजीठ टेसू बन राता ॥

भा बसंत रातीं बनसपती । औ राते सब जोगी जती ॥

पुहुमि जो भीजि, भएउ सब गेरू । औ राते तहँ पंखि पखेरू ॥

राती सती अगिनि सब काया । गगन मेघ राते तेहि छाया ॥

ईंगुर भा पहार जौं भीजा । पै तुम्हार नहिं रोवँ पसीजा ॥

तहाँ चकोर कोकिला, तिन्ह हिय मया पईठि ।

नैन रकत भरि आए ,तिन्ह फिरि कीन्ह न दीठ ॥12॥


ऐस बसंत तुमहिं पै खेलहु । रकत पराए सेंदुर मेलेहु ॥

तुम्ह तौ खेलि मँदिर महँ आईं । ओहि क मरम पै जान गोसाईं ॥

कहेसि जरै को बारहि बारा । एकहि बार होहुँ जरि छारा ॥

सर रचि चहा आगि जो लाई । महादेव गौरी सुधि पाई ॥

आइ बुझाइ दीन्ह पथ तहाँ । मरन-खेल कर आगम जहाँ ॥

उलटा पंथ पेम के बारा । चढै सरग, जौ परै पतारा ॥

अब धँसि लीन्ह चहै तेहि आसा । पावै साँस, कि मरै निरासा ॥


पाती लिखि सो पठाई, इहै सबै दुख रोइ ।

दहुँ जिउ रहै कि निसरै, काह रजायसु होइ ?॥13॥


कहि कै सुआ जो छोडेसि पाती । जानहु दीप छुवत तस ताती ॥

गीउ जो बाँधा कंचन-तागा । राता साँव कंठ जरि लागा ॥

अगिनि साँस सँग निसरै ताती । तरुवर जरहिं ताहि कै पाती ॥

रोइ रोइ सुआ कहै सो बाता । रकत कै आँसु भएउ मुख राता ॥

देख कंठ जरि लाग सो गेरा । सो कस जरै बिरह अस घेरा ॥

जरि जरि हाड भयउ सब चूना । तहाँ मासु का रकत बिहूना ॥

वह तोहि लागि कथा सब जारी । तपत मीन, जल देहि पवारी ॥


तोहि कारन वह जोगी, भसम कीन्ह तन दाह ।

तू असि निठुर निछोही, बात न पूछै ताहि ॥14॥


कहेसि"सुआ ! मोसौं सुनु बाता । चहौं तो आज मिलौं जस राता ॥

पै सो मरम न जाना भोरा । जानै प्रीति जो मरि कै जोरा ॥

हौं जानति हौं अबही काँचा । ना वह प्रीति रंग थिर राँचा ॥

ना वह भएउ मलयगिरि बासा । ना वह रवि होइ चढा अकासा ॥

ना वह भयउ भौंर कर रंगू । ना वह दीपक भएउ पतंगू ॥

ना वह करा भृंग कै होई । ना वह आपु मरा जिउ खौई ॥

ना वह प्रेम औटि एक भएउ । ना ओहि हिये माँझ डर गयऊ ॥


तेहि का कहिय जिउ रहै जो पीतम लागि ।

जहँ वह सुनै लेइ धँसि, का पानी, का आगि ॥15॥


पुनि धनि कनक=पानि मसि माँगी । उतर लिखत भीजी तन आँगी ॥

तस कंचन कहँ चहिय सोहागा । जौं निरमल नग होइ तौ लागा ॥

हौं जो गई सिव-मंडप भोरी । तहँवाँ कस न गाँठि तैं जोरी ? ॥

भा बिसँभार देखि कै नैना । सखिन्ह लाज का बोलौं बैना ?॥

खेलहिं मिस मैं चंदन घाला । मकु जागसि तौं देउँ जयमाला ॥

तबहुँ न जागा, गा तू सोई । जागे भेंट न सोए होई ॥

अब जौं सूर होइ चढै अकासा । जौं जिउ देइ त आवै पासा ॥


तौ लगि भुगुति न लेइ सका रावन सिय जब साथ ।

कौन भरोसे अब कहौं ? जीउ पराए हाथ ॥16॥


अब जौं सूर गगन चढि आवै । राहु होइ तौ ससि कहँ पावै ॥

बहुतन्ह ऐस जीउ पर खेला । तू जोगी कित आहि अकेला ॥

बिक्रम धँसा प्रेम के बारा । सपनावति कहँ गएउ पतारा ॥

मधूपाछ मुगुधावति लागी । गगनपूर होइगा बैरागी ॥

राजकुँवर कंचनपुर गयऊ । मिरगावति कहँ जोगी भएऊ ॥

साध कुँवर खंडावत जोगू । मधु-मालति कर कीन्ह वियोगू ॥

प्रेमावति कहँ सुरपुर साधा । ऊषा लगि अनिरुध बर बाँधा ॥


हौं रानी पदमावती, सात सरग पर बास ।

हाथ चढौं मैं तेहिके प्रथम करै अपनास ॥17॥


हौं पुनि इहाँ ऐस तोहि राती । आधी भेंट पिरीतम-पाती ॥

तहुँ जौ प्रीति निबाहै आँटा । भौंर न देख केत कर काँटा ॥

होइ पतंग अधरन्हु गहु दीया । लेसि समुद धँसि होइ सीप सेवाती ॥

चातक होइ पुकारु, पियासा । पीउ न पानि सेवाति कै आसा ॥

सारस कर जस बिछुरा जोरा । नैन होइ जस चंद चकोरा ॥

होहि चकोर दिस्टि ससि पाहाँ । औ रबि होहि कँवलदल माहाँ ॥


महुँ ऐसै होउँ तोहि कहँ, सकहि तौ ओर निबाहु ।

रोहु बेधि अरजुन होइ जीतु दुरपदी ब्याहु ॥18॥


राजा इहाँ ऐस तप झूरा । भा जरि बिरछ छार कर कूरा ।

नैन लाइ सो गएउ बिमोही । भा बिनु जिउ दीन्हेसि ओही ॥

कहाँ पिंगला सुखमन नारी । सूनि समाधि लागि गइ तारी ॥

बूँद समुद्र जैस होइ मेरा । गा हेराई अस मिलै न हेरा ।

रंगहि पान मिला जस होई । आपहि खोइ रहा होइ सोई ॥

सुऐ जाइ जब देखा तासू । नैन रकत भरि आए आँसू ॥

सदा पिरीतम गाढ करेई । ओहि न भुलाइ,भूलि जिउ देई ॥


मूरि सजीवन आनि कै औ मुख मेला नीर ।

गरुड पंख जस झारै अमृत बरसा कीर ॥19॥


मुआ जिया बास जो पावा । लीन्हेसि साँस, पेट जिउ आवा ॥

देखेसि जागि सिर नावा । पाती देइ मुख बचन सुनावा ॥

गुरू क बचन स्रवन दुइ मेला । कीन्ह सुदिस्टि, बेगु चलु चेला ॥

तोहि अलि कीन्ह आप भइ केवा । हौं पठवा गुरु बीच परेवा ॥

पौन साँस तोसौं मन लाई । जोवै मारग दिस्टि बिछाई ॥

जस तुम्ह कया कीन्ह अगि-दाहू । सो सब गुरु कहँ भएउ अगाहू ॥

तव उदंत लिखि दीन्हा । वेगि आउ , चअहै सिध कीन्हा ॥


आवहु सामि सुलचछना, जीउ बसै तुम्ह नाँव ।

नैनहिं भीतर पंथ है, हिरदय भीतर ठावँ ॥20॥


सुनि पदमावति कै असि मया । भा बसंत, उपनी नइ कया ॥

सुआ क बोल पौन होइ लागा । उठा सोइ, हनुवँत अस जागा ॥

चाँद मिलै कै दीन्हेसि आसा । सहसौ कला सूर परगासा ॥

पाति लीन्ह, लेइ सीस चढावा । दीठि चकोर चंद जस पावा ॥

आस-पियासा जो जेहि केरा । जों झिझकार, ओहि सहुँ हेरा ॥

अब यह कौन पानि मैं पीया । भा तन पाँख, पतँग मरि जीया ॥

उठा फुलि हिरदय न समाना । कंथा टूक टूक बेहराना ॥


जहाँ पिरीतम वै बसहिं यह जिउ बलि तेहि बाट ।

वह जौ बोलावै पावँ सौं, हौं तहँ चलौ लिलाट ॥21॥


जो पथ मिला महेसहि सेई । गएउ समुद ओहि धँसि लेई ॥

जहँ वह कुंड विषम औगाहा । जाइ परा तहँ पाव न थाहा ॥

बाउर अंद पेम कर लागू । सौहँ धँसा, किछु सूझ न आगू ॥

लीन्हे सिधि साँसा मन मारा । गुरू मछंदरनाथ सँभारा ॥

चेला परे न छाँडहि पाछू । चेला मच्छ , गुरू जस काछू ॥

जस धँसि लीन्ह समुद मरजीया । उघरे नैन, बरै जस दीया ॥

खोजि लीन्ह सो सरग-दुआरा । बज्र जो मूँदे जाइ उघारा ॥


बाँक चढाव सरग-गढ, चढत गएउ होइ भोर ।

भइ पुकार गढ ऊपर, चढे सेंधि देइ चोर ॥22॥



(1) परी हूल = कोलाहल हुआ । जस घर भरे...कीन्हा = जैसे भरे घट में चोरी करने का विचार चोर ने किया हो । लाग =लगे , भिड गए । खेला = विचरता हुआ आया । रजायसु = राजाज्ञा ।


(2) खेलहिं = बिचरें, जायँ । अस लागेहु = ऐसे काम में लगे । कोहु = क्रोध ।


(3) आएउँ लेई = लेने आया हूँ । भूजा = मेरे लिये भोग है । धरम लाइ = धर्म लिए हुए , सत्य सत्य । भीख निहोरा = भीख के संबंध में, अथवा इसी भीख को मैं माँगता हूँ । निरासा =आशा या कामना से रहित


(4) धरती परा...चाटा = धरती पर पडा हुआ कौन स्वर्ग या आकाश चाटता है ? कहावत है - " रहै भूईं औ चाटै बादर" । गोटा = गोला । रोटा = दबकर गूँधे आँटे की बेली रोटी के समान । बाँदर काटु = बंदर काटे, मुहाविरा - अर्थात् जोगी का बुरा हो, जोगी चूल्हे में जायँ ।


(5) सत =सौ । सरि पहुँचाव = बराबर या ठिकाने पहुँचा देता है । दिस्टि चाहि....हाथू = दृष्टि पहुँचने के पहले ही योगी का हाथ पहुँच जाता है । चाहि = अपेक्षा, बनिस्बत । नए =नम्र हुए ।


(6) सँजोऊ =समान । पति =बडाई, प्रतिष्ठा जोगी....खेले = योगी कहाँ रहते हैं बिना (और जगह) गए ?


(7) चाहा = चाह खबर । माझी =मध्यस्थ । नाठा जाइ = नष्ट किया या मिटाया जाता है । मसि =स्याही । लिखनी = लेखनी, कलम । अकल्य = अकत्थ बात ।


(8) सेवा कहि -विनय कहकर । सँवार = संवाद, हाल । बलि जिउ रहा...जागा = जीव तो पहले ही बलि चढ गया था, ( इसी से तुम्हारे आने पर) वह शरीर न जगा । ईस = महादेव । भाव = भाता है । आसामुखी = मुख का आसरा देखनेवाला ।


(9) जान =जानता है । सावाँ = श्याम । छूँछि = खाली ।


(10) नीर कंठ लहि ....पियासा = कंठ तक पानी में रहता है फिर भी प्यासों मरता है । बसंदर = बैश्वानर, अग्नि ।बिरह = विरह से । रूख= बिना तेल का ।


(12) रतनारा = लाल । नैन रकत भरि आए = चकोर और पहाडी कोकिला की आँखें लाल होती हैं ।


(13) दीन्ह पथ तहाँ = वहाँ का रास्ता बताया मरन खेल...जहाँ = जहाँ प्राण निछावर करने का आगम है । उलटा पंथ = योगियों का अंत- र्मुख मार्ग; बिषयों की ओर स्वभावतः जाते हुए मन को उलटा पीछे की ओर फेरकर ले जाने वाला मार्ग ।


(14) ताहि कै पाती = उसकी उस चिट्ठी से । देखु कंठ जरि ..गेरा = देख, कंठ जलने लगा कंठ जलने लगा (तब) उसे गिरा दिया । देहि पवारी = फेंक दे ।


(15) काँचा =कच्चा । राँचा = रँग गया । औटि = पगकर ।


(16) धनि =स्त्री । कनक पानि = सोने का पानी । बिसँभार = बेसुध । घाला =डाला, लगाया । कनक पानि = सोने का पानी । बिसँभार = बेसुध घाला = डाला, लगाया । मकु = कदाचित् ।जागे भेंट....होई = जागने से भेंट होती है, सोने से नहीं ।


(17) अपनास = अपना नाश ।


(18) निबाहैं आँटा = निबाह सकता है । केत = केतकी । महुँ, मैं भी । ओर निबाहु = प्रीति को अंत तक निबाह ।


(19) कूरा = ढेर । पिंगला = दक्षिण नाडी । सुखमन = सुषुम्ना, मध्य नाडी । सूनि समाधि = शून्यसमाधि । तारी = त्राटक, टकटकी । गाढ = कठिन अवस्था ।


(20) केवा = केतकी । अगाहू भएउ = विदित हुआ । उदंत = संवाद, वृत्तान्त । छाला = पत्र । सामि =स्वामी ।


(21) हनुवँत = हनुमान् के ऐसा बली । झिझकार = झिडके । सहुँ =सामने बेहराना =फटा ।


(22) धँसि लेई = धँसकर लेने के लिए । लागू =लाग, लगन । परे = दूर । बाँक = टेढा, चक्करदार । सरगदुवार = दूसरे अर्थ में दशम द्वार ।


No comments:

Post a Comment

निबंध | कवि और कविता | महावीर प्रसाद द्विवेदी | Nibandh | Kavi aur Kavita | Mahavir Prasad Dwivedi

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी निबंध - कवि और कविता यह बात सिद्ध समझी गई है कि कविता अभ्यास से नहीं आती। जिसमें कविता करने का स्वाभाविक माद्द...