Tuesday, July 19, 2022

कबीर ग्रंथावली | साषीभूत कौ अंग (साखी) | कबीरदास | Kabir Granthavali | Sashibhoot ko Ang / Sakhi | Kabirdas



 कबीर पूछै राँम कूँ, सकल भवनपति राइ।

सबही करि अलगा रहौ, सो विधि हमहिं बताइ॥1॥


जिहि बरियाँ साईं मिलै, तास न जाँणै और।

सब कूँ सुख दे सबद करि, अपणीं अपणीं ठौर॥2॥


कबीर मन का बाहुला, ऊँचा बहै असोस।

देखत ही दह मैं पड़े, दई किसा कौं दोस॥3॥800॥


No comments:

Post a Comment

निबंध | कवि और कविता | महावीर प्रसाद द्विवेदी | Nibandh | Kavi aur Kavita | Mahavir Prasad Dwivedi

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी निबंध - कवि और कविता यह बात सिद्ध समझी गई है कि कविता अभ्यास से नहीं आती। जिसमें कविता करने का स्वाभाविक माद्द...