Monday, July 18, 2022

कबीर ग्रंथावली | जर्णा कौ अंग (साखी) | कबीरदास | Kabir Granthavali | Jarna ko Ang / Sakhi | Kabirdas


भारी कहौं त बहु डरौ, हलका कहूँ तो झूठ।

मैं का जाँणौं राम कूं, नैनूं कबहुं न दीठ॥1॥

टिप्पणी: क-हलवा कहूँ।


दीठा है तो कस कहूँ, कह्या न को पतियाइ।

हरि जैसा है तैसा रहौ, तूं हरिषि हरिषि गुण गाइ॥2॥


ऐसा अद्भूत जिनि कथै, अद्भुत राखि लुकाइ

बेद कुरानों गमि नहीं, कह्याँ न को पतियाइ॥3॥


करता की गति अगम है, तूँ चलि अपणैं उनमान।

धीरैं धीरैं पाव दे, पहुँचैगे परवान॥4॥


पहुँचैगे तब कहैंगे, अमड़ैगे उस ठाँइ।

अजहूँ बेरा समंद मैं, बोलि बिगूचै काँइ॥5॥


 

No comments:

Post a Comment

निबंध | कवि और कविता | महावीर प्रसाद द्विवेदी | Nibandh | Kavi aur Kavita | Mahavir Prasad Dwivedi

आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी निबंध - कवि और कविता यह बात सिद्ध समझी गई है कि कविता अभ्यास से नहीं आती। जिसमें कविता करने का स्वाभाविक माद्द...